स्व. हरिकिशनजी बजाज मेमोरियल माहेश्वरी शिक्षण विकास संस्था,
नांदेड

शिक्षा के क्षेत्र मे समाज का दीपस्तंभ

जीवन में शिक्षा को एक अनन्य साधारण महत्व है ! हमारे भविष्य को आकार देने मे शिक्षा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है ! शिक्षण एक ऐसी प्रक्रिया है जो व्यक्तियों को एक सार्थक और सफल जीवन जीने में मदद करती है। शिक्षा सभी लोगों का मौलिक अधिकार है, लेकिन आज भी समाज में कई बच्चे आर्थिक अभाव के कारण शिक्षा से वंचित रह जाते हैं। कुछ साल पूर्व यह बात उभर के सामने आने के बाद माहेश्वरी समाज के कई बंधू एकत्रित होकर उन्होंने स्व हरिकीशनजी बजाज मेमोरियल माहेश्वरी शिक्षण विकास संस्था की स्थापना कर समाज का हर बच्चा पढेगा ऐसा संकल्प किया ! शिक्षा दिलाने व देने मे यह संस्था आज समाज मे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है !

हमने कोई संकल्प लिया, कूछ उद्देश लेकर चले है,तो उसका नेतृत्व कोई सक्षम व्यक्ती के हातोंमे होना चाहिए ! समाज के बहुआयामी व्यक्तिमत्त्व,प्रखर वक्ता तथा दूरदृष्टी के धनी डॉ राजेंद्र मुंदडा इनके हातोंमे इस शिक्षण संस्था की कमान सौपने का निर्णय सर्वसम्मती से लिया गया ! इस संस्था के निर्माण के बाद समाज के बच्चे और युवक इनके लिये शिक्षा के दरवाजे खुल गये! आर्थिक दुर्बलता की वजह से शिक्षा से वंचित रहनेवाले बंच्चो को बडी राहत मिली !

कूछही वर्ष मे इस शिक्षण संस्थाने सेकडो बच्चे और युवकोंको सहाय्यता देकर उनकी पढाई और करियर मे मुख्य भूमिका निभाई है ! आज ये संस्था मराठवाडा मे एक अग्रणी शैक्षणिक संस्था के रूप में जानी जाती है .सामान्य रूप से शिक्षा में इसके योगदान का मूल्य बहुत अधिक है,क्योंकि संस्थाने शुरुआत से ही जरुरतमंद परिवार के बच्चोंकी की शिक्षा पर जोर देने की पूरी कोशिश की है ! डॉ मुंदडाजी और उनके सभी पदाधिकारी इन्होने अनेक योजना कार्यान्वित करके उसका लाभ सर्वसामान्य परीवारोंके युवंको तक पोहचाने की कोशिश की हैं! शिक्षा से वंचित लोगों को शिक्षा के मुख्य धारा में जोड़ने की प्रयास इन्होने किया है !

कई संस्थाये ऐसी है, जिसका नाम सुनते ही वहा के मुख्य व्यक्ती नजरोंके सामने आते है ! उसी प्रकार माहेश्वरी शिक्षण विकास संस्था के नाम का उल्लेख होते ही,विद्यमान अध्यक्ष गोपाललाल लोहिया,सचिव प्रा.किशनप्रसाद दरक व कोषाध्यक्ष सिए प्रकाश गट्टाणी इनके नाम सामने आते है ! क्योंकी इस संस्था की स्थापना से लेकर , इस संस्था को प्रगती के शिखर पर ले जाने काम इन लोगोंने किया है ! गत १४ सालोंसे अविरत कार्य कर रही है इस संस्था के माध्यम से आर्थिक सह्योग,प्रतिभा पुरस्कार,छात्रवृती योजना,निःशुल्क शिक्षा योजना ऐसे कई उपक्रम चलाये जाते हैं !

जल ही जीवन है,उसी प्रकार शिक्षण ही जीवन है, ऐसा कहा जाता है ! समाज के युवंकोको शिक्षा के मुख्य प्रवाह मे लाने मे जितना इस संस्था का योगदान है, उतना ही माहेश्वरी समाज बंधूओंका भी ईसमे महत्वपूर्ण सहभाग है ! कई लोगोंने खुद आगे आकर इस संस्था अपना आर्थिक सहयोग दिया, कूछ परिवारोंने अपने माता पिता की स्मृती मे स्कॉलरशिप देने के लिये धनराशी प्रदान की ! माहेश्वरी शिक्षण विकास संस्था आज समाज की बडी उपलब्धि है और शिक्षा के क्षेत्र मे युवंको के लिये दिशादर्शक रहेंगी!

विशेष रुप से संस्था को आयकर अधिनियम की धारा 12A, 80G और CSR Registration प्राप्त है। विदेशों से अनेक दानदाताओं ने संस्था को दान राशि देने में रुचि बताई है। इस हेतू FCRA कानून के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया गतिशील है। यांनी संस्था के इस उल्लेखनीय काम की विदेश में रहनेवाले माहेश्वरी परिवारोंने भी सरहना की है !

संस्था द्वारा चलाई जा रही प्रमुख योजनाएं:

१) आर्थिक सहयोग योजना: समाज के जरूरतमंद परिवारों के बालकों को "KG to PG" पढ़ाई हेतु आर्थिक सहयोग;

२) प्रतिभा पुरस्कार: SSC, HSC, CBSE (XI & XII) में ९०% से ऊपर मार्क्स लेनेवाले प्रति कक्षा पहले तीन छात्र तथा ग्रेजुएशन, पोस्टग्रेजुएशन, प्रोफेशनल कोर्सेज में सर्वोत्तम मार्क्स लेनेवाले छात्रों को सौ. विद्यादेवी हरिकिशनजी लोहिया रजत पदक (silver medal);

३) स्वर्ण पदक: शिक्षा के क्षेत्र में सर्वोत्कृष्ट उपलब्धि प्राप्त करनेवाले युवा को "स्व. एड. मदनलालजी राठी एवं स्व. शुभम भक्कड स्मृति स्वर्ण पदक;

४) खेलरत्न पुरस्कार: खेलकूद के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय - राष्ट्रीय- प्रांतीय स्तर पर सर्वोत्कृष्ट कार्य करनेवाले युवा को स्व. डॉ. रामचन्द्रजी लक्ष्मीनारायणजी तोषनीवाल स्मृति खेलरत्न पुरस्कार;

५) बालक दत्तक योजना: समाज के प्रबुद्ध दानदाताओं द्वारा प्राप्त राशि से जरूरतमंद बालकों की पढ़ाई का सम्पूर्ण खर्च (अधिकतम रु. २१,०००/- प्रतिवर्ष प्रति बालक);

६) छात्रवृति योजना: दानदाताओं से प्राप्त राशि को (कमसे कम रु. ५१,०००/-) बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट में रखकर उसके ब्याज स्वरूप प्राप्त राशि से ७० से अधिक छात्रवृतियां;

७) निशुल्क शिक्षा योजना: विविध स्कूलों से संपर्क करके समाज के जरूरतमंद बालकों को निशुल्क शिक्षा दिलाने का प्रयास किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत शहर की सुप्रसिद्ध किड्स किंगडम पब्लिक स्कूल में प्रतिवर्ष दो बालकों को प्रवेश दिया जाता था; इस वर्ष से दशमेश ज्योत पब्लिक स्कूल नांदेड़ में यह योजना क्रियान्वित की गई है। कुछ अन्य स्कूलों के साथ भी ऐसे ही योजना पर कार्य चल रहा है।

८) सी. ए. निशुल्क शिक्षा योजना: समाज के होनहार किंतु जरूरतमंद प्रतिवर्ष दो छात्रों को ब्रिलियंट कॉमर्स एकेडमी, नया मोंढा, नांदेड़ के सौजन्य से कक्षा ११वीं, १२वीं, सीए फाऊंडेशन, सीए इंटरमीडिएट तक की निशुल्क कोचिंग;

९) भार्गव - एलेन छात्रवृति योजना: संस्था द्वारा अनुशंसित प्रतिवर्ष दो बालकों को कक्षा ८ वीं से १२वीं तक की कोचिंग।

१०) बंसल क्लासेस छात्रवृति योजना: संस्था द्वारा अनुशंसित प्रतिवर्ष दो बालकों को कक्षा ८ वीं से १२वीं तक की निशुल्क कोचिंग।

११) स्व. रामेश्वरजी बियाणी स्मृति वक्तृत्व प्रतियोगिता: समाजके युवाओं में ज्ञान के साथ साथ नेतृत्व गुण का विकास हो इसलिए प्रतिवर्ष १५ जनवरी को आयोजित प्रतियोगिता;

१२) स्व. शिवलालजी राठी निबंध प्रतियोगिता: युवाओं में राष्ट्र भक्ति जागृत हो, उन्हे राष्ट्र के सच्चे इतिहास की जानकारी हो इस हेतू प्रतिवर्ष १५ अगस्त को आयोजित निबंध प्रतियोगिता

 

श्री ह.ब.मे. माहेश्वरी शिक्षण विकास संस्था नांदेड़, वर्तमान कार्यकारी मंडल:

अध्यक्ष:
श्री गोपाल लाल लोया

उपाध्यक्ष:
श्री ओमप्रकाश इन्नाणी

सचिव:
प्रो. किशनप्रसाद दरक

कोषाध्यक्ष:
सी ए श्री प्रकाश गट्टानी

सहसचिव:
श्री रमेश डागा

कार्यकारी मंडल सदस्य:

डॉ. श्री राजेंद्र मूंदड़ा
श्री हरिदास भट्टड
श्री रामप्रसाद मूंदड़ा, हदगांव
श्री संजय कुमार सारडा
डॉ. श्री लक्ष्मीकांत बजाज
श्री दुर्गाप्रसाद तोषनीवाल

स्वीकृत सदस्य:

एड. दीपा बियानी
डॉ. शोभा तोषनीवाल
श्री दीपक बजाज
श्री कैलाश राठी
श्री जगदीश बियाणी